This Sunday, while I was travelling back to Delhi on train, my mind was all busy revisiting the childhood days, when the life used to be much simple, when apple and blackberry were just fruits and when the life was supposed to be meant only for having fun in the evening with the friends.
Just craving to get back into those memories, I wrote few lines:

मैं दस तक गिनूँगा, तुम छिप जाना,
छोटे छोटे खेलों में शामें बिताना,
मुझे वही खेल तुम फिर से खिला दो,
कोई तो मुझे मेरा बचपन लौटा दो।

जब दूरदर्शन देखना ही हमारी ज़िन्दगी थी,
सुरभि की रंगोली में दुनिया रंगी थी,
चित्रहार के मुझे वो गाने सुना दो,
कोई तो मुझे मेरा बचपन लौटा दो।

बारिश बरसने पर बाहर जाने का बहाना,
हुआ जो समंदर तो पानी के जहाज़ चलाना,
वो बारिश में मुझे तुम फिर से भीगा दो,
कोई तो मुझे मेरा बचपन लौटा दो।

एक दिन लड़ाई तो दूसरे दिन प्यार था,
कुछ दोस्तों में ही सिमटा संसार था,
वो मासूम दिलों को कहीं से ढुँढवा दो,
कोई तो मुझे मेरा बचपन लौटा दो।

जेबें थी खाली, पर दिल के अमीर थे,
दिल जब जुड़े थे बिना जंज़ीर के,
भगवान, मुझे फिर से वैसा ही बना दो,
कोई तो मुझे मेरा बचपन लौटा दो।

दीवारें घरों की कच्ची, पर मन के सच्चे थे,
जाने वो दिन कहाँ गए, जब हम छोटे बच्चे थे,
भगवान, मुझे फिर से वैसा ही बना दो,
कोई तो मुझे मेरा बचपन लौटा दो।

Can anyone help me find those days again?

10 thoughts on “Reliving Childhood Days”

  1. Take out some time from your busy schedule, have an evening with the kids playing outside…. you will definately love this bro…

  2. simar…its simply superb!!!koi lauta de bachpan ke wo din!!nostalgic!!
    really appreciable…great job!!way to go !!

  3. That was the golden period of my life…thank you reminding me once again… U actually made me nostalgic…. Awesome…..!!!

  4. Another good writing by good heart. The good days which we have been through won’t ever come back but the memories will, today relations can’t be innocent as were in those days but the friendship will, we know that we can’t be of 10 again but our heart with innocents habits surely will…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *