There was a time when we used to find meaning to our endless meaningless talks. There used to be a time when we need not check the time to meet our friends. While we have gotten so busy in our own daily routines, somewhere in our hearts, we always desire to get back to our old golden days, when the life was much more simpler and nonetheless, much more happy. Here’s my small wishlist to relive those old times once again:

58

ज़िन्दगी की राह पर चलते चलते,
कुछ लम्हें याद अब आते हैं,
ज़िन्दगी रंगीन थी उन्ही लम्हों से,
अब बस पलकें भीगा जाते हैं।

DSC_0043

वो स्कूल में खेलना कूदना हमारा,
वो कॉलेज के लेक्चर में शोर मचाना,
वो सीए की पढ़ाई में भी होती थी मस्ती,
उन्ही लम्हों को कहते थे ज़िन्दगी बिताना।

अब सुबह से सीधा रात हो जाए,
बचपन की वो शामें अब कहाँ से लाएँ,
ज़िन्दगी की दौड़ में भाग रहे है सभी,
चलो कुछ पल के लिए उस दौड़ को भुलाएँ।

IMG-20160228-WA0072

वो चाय संग समोसा मिल बाँट के खाना है,
कुछ बेमतलब की बातों में ही समय बिताना है,
जिन लम्हों से ज़िन्दगी अपनी रँगीन थी,
उन्ही कुछ लम्हों को वापिस अब पाना है,
दोस्तों संग बिताए उन्ही लम्हों में थी ज़िन्दगी,
उन्ही कुछ लम्हों को वापिस अब पाना है।

Friends are life and life is meaningful only with friends. Let’s relive those moments.

4 thoughts on “Reliving Old Days!”

  1. That is so true! The pace of our lives and such lovely moments are inversely proportional. Make a plan to meet na!!
    P. S. It’s beautifully written! (like always)

Leave a Reply

Your email address will not be published.